Sunday, 22 January, 2012

म्हारै घर में

म्हारै घर में
पक्की है ईंटां
रिस्ता कोनीं
जका टूट जासी
पत्थर है
भाठा है
मंजियै रा
बिसवास थोड़ी है
जका डिग जासी

चूनो है
रंग-बिरंगो
ओळ्यूं कोनीं
जकी
मोळी पड़ जासी।

जे कर है मजबूत
रिस्ता-विसवास
लूंइी ओळ्यूं
ईंट
भाठा अर चूनै सूं
तो पछै
मिनख क्यूं नीं
म्हारै घर में
बा सूं मजबूत।

No comments:

Post a Comment

There was an error in this gadget