Monday 9 May 2011

दादो जी रो गेडिय़ो
दादो जी हा
जद ई दिखतो गेडिय़ो ।
उठतां, बगतां तो
बां रै सागै रैंवतो गेडिय़ो ।
...पलंग रै सारै
पूरै जाब्तै सूं राखता गेडिय़ो ।
हैलो नीं सुणता
जद टाबरिया तो टिकांवता गेडिय़ो।
कोठै सूं बसाळी अर बसाळी सूं कोटड़ी
छोटी पड़ती जद बां रै हाथ लागतौ गेडिय़ो ।
चौकी माथै नीं चढ़ता डांगर अर गंडक
जद बै देखता दादो जी रै हाथ गेडिय़ो।
अब
कोनी दादो जी !
गेडिय़ो है
पण
पड़्यो है अलमारी रै लारे खूणै में लागयोड़ो

No comments:

Post a Comment

There was an error in this gadget