Tuesday, 8 June, 2010

सब है पता है ना माँ

मैं कभी बतलाता नहीं पर अँधेरे से डरता हू मैं माँ

यूं तो मैं दिखलाता नहीं तेरी पर्वहा करता हू मैं माँ

तुझे सब है पता हे न माँ -2

No comments:

Post a Comment